शर्मनाक घटना: सरकरी अस्पताल मा नि मिली डॉक्टर, गर्भवती न पर्ची काउंटर पर ही दे दयायी बच्चा तै जलम

पहाड़ मा स्वास्थ्य सेवाओं क हाल बहुत बेकार छन । यख अस्पताल त खोल देन लेकिन विशेषज्ञ डाक्टर तैनात नि करे गेन । नतीजन, मरीज तै आपात स्थिति मा हायर सेंटर रेफर कर दिये जांद ।

बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं की एक बानगी जिला अस्पताल मा दिखणा कुन मिली। स्त्री रोग विशेषज्ञ नि हूंण से बुड़ाखेत की गर्भवती महिला तै हायर सेंटर रेफर कर दिये ग्यायी लेकिन जनानी न पर्ची काउंटर क समणी एक बच्चा तै जन्मी दयायि ।

बाद मा जिला अस्पताल कर्मियू की मदद से मां अर नवजात शिशु तै वार्ड मा ली जये ग्यायी । अब जच्चा-बच्चा खतरा से भैर छन। मुख्य चिकित्साधीक्षक डॉ. आरके जोशी न बतायी कि जिला मुख्यालय से 25 किमी दूर स्थ्ति बुड़ाखेत गांव की गर्भवती भवानी देवी (35) घरवलि दिनेश राम तै सोमवार सुबह अस्पताल लये ग्यायी।

डॉ. वर्षा का बुलंण च कि महिला तै हायर सेंटर रेफर करे गे छ्यायी। मौका पर मौजूद सीएमओ डॉ. आरपी खंडूरी न 108 कुणी कॉल करी। पति क बुलंण च कि घरवलि तळ उतरी अर कुछ ही देर पर्ची काउंटर क समणी नौन तै जन्मी दयायि।

डॉ. वर्षा न बताया कि गर्भवती महिला तै रक्तश्राव हूँणा छ्यायी । शिशु क वजन भी सामान्य से करीब डेढ़ किलो ज्यादा छ्यायी। बाद मा महिला तै वार्ड मा शिफ्ट करे ग्यायी । जनानी की या छठी संतान च। दंपती की पांच बिटूल छन।

जिला मा एक भी स्त्री रोग विशेषज्ञ नि च

चंपावत जिला मा छूट -बड़ कुल 23 सरकारी अस्पताल छन, लेकिन जिला अस्पताल समेत कै भी अस्पताल मा स्त्री रोग विशेषज्ञ नि छन। एक साल पैल जिला अस्पताल मा गायनाकोलोजिस्ट छेयी लेकिन वी तै प्रतिस्थानी क अया बगैर कार्यमुक्त कर दिये ग्यायी। अर जिस गायनोकोलोजिस्ट तै यख लखये गे छेयी , वा कभी यख आई नी च। सीएमएस डॉ. आरके जोशी क बुलण च कि हर मैना उच्चाधिकारियों कुनी चिट्ठी लिख्याणा च।

जिला अस्पताल स्टाफ न मेरी घरवलि तै हायर सेंटर रेफर कना कुणी ब्वाल । हायर सेंटर जाण बाबत आपात सेवा 108 कुणी कॉल कने छ्यायी, तबरि ये बीच, हायर सेंटर भिजण की प्रक्रिया चलने छेयी कि घरवलि तै तेज दर्द ह्वाई। अस्पताल परिसर क पर्ची काउंटर क समणी घरवलि एक कूणा मा ग्यायी , तबरी वीन नौन जन्मी दयायि।
दिनेश राम, प्रसूता क पति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *