95% सही सलामत छ चंद्रयान 2, ऑर्बिटर अब भी लगाणा च जून ( चाँद) चक्कर

95% सही सलामत छ चंद्रयान 2, ऑर्बिटर अब भी लगाणा च जून ( चाँद) चक्कर

चंद्रयान 2 क लैंडर विक्रम कू चांद पर लैंडिग से ठीक 2.1 किमी पैल वेक इसरो बिटी संपर्क टूट ग्यायी. विक्रम संपर्क किले टूटी या फिर उ दुर्घटनाग्रस्त त नी ह्वाई ? अभी भले येकी क्वी जानकारी नी छ लेकिन 978 करोड़ रुपये लागत ह्वाल चंद्रयान-2 मिशन मा अभी सबकुछ खत्म नी ह्वाई।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) कू एक अधिकारी न नाम नी बताण अनुरोध पर बतायी, ‘मिशन कू सिर्फ पांच प्रतिशत -लैंडर विक्रम अर प्रज्ञान रोवर- नुकसान ह्वाई, जबकि बाकी 95 प्रतिशत -चंद्रयान-2 ऑर्बिटर- अभी भी जूनी सफलतापूर्वक चक्कर कटणु च।

एक साल मिशन अवधि ह्वाल ऑर्बिटर चंद्रमा कत्ती तस्वीरू तै लेकन इसरो कुणी भेज सकदू। अधिकारी न ब्वाल कि ऑर्बिटर लैंडर तस्वीर तै भी लेकन भेज सकदू, जैसे वेकी स्थिति बाबत पता चल सकदू. चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान मा तीन खंड छन -ऑर्बिटर (2,379 किलोग्राम, आठ पेलोड), विक्रम (1,471 किलोग्राम, चार पेलोट) अर प्रज्ञान (27 किलोग्राम, दो पेलोड)।

विक्रम द्वी सितंबर कुणी आर्बिटर बिटी अलग ह्वे गे छ्यायी।. चंद्रयान-2 तै ये से पैली 22 जुलाई कुणी भारत हेवी रॉकेट जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल-मार्क 3 (जीएसएलवी एमके 3) जरिए अंतरिक्ष मा लांच करे गे छ्यायी।

प्रधानमंत्री मोदी विक्रम लैंडर बिटी संपर्क टूटण बाद ब्वाल कि, हर मुश्किल, हर संघर्ष, हर कठिनाई, हम तै कुछ नै सीखै कन जै करदी , कुछ नै आविष्कार, नै टेक्नोलॉजी खातिर प्रेरित करदी अर ये से हमरी ऐथर की सफलता तय हूंद। ज्ञान अगर सबसे बडू क्वी शिक्षक च त उ विज्ञान च. विज्ञान मा विफलता नी हूंदी, केवल प्रयोग अर प्रयास ह्वे करदन.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *