मानव संसाधन मंत्रालय नै गाईइलाईन अनुसार 30 मिनट से ज्यादा क्लास नी ले सकदन स्कूल

     मानव संसाधन मंत्रालय न मंगलवार दिन स्कूल द्ववारा आनलाईन कक्षाऔं बाबत दिशा निर्देश दीण घोषणा करी। आखिर यी गाईडलाईन मा कक्षाऔं बाबत सरकार न क्या नियम बणयां छन जू स्कूलौं तै मनण पड़ल।
स्कूलू मा आनलाईन कक्षाऔं की नियमितता बाबत अभिभावकौं तरफ बिटी चिंता जतये गे छेयी । अभिभावक चिंता जाहिर कना बाद मंत्रालय न दिशा निर्देश तैयार करी येन। बतै दिवां क कोविड महामारी बाद बच्चा आनलाईन कक्षा चलणा छन। ये दौरान बच्चा स्क्रीन मा ज्यादा बगत लगाणा छन। यन मा अभिभावकौं न माॅग करी छेयी कि क्लास टीचिंग से आनलाईन शिक्षण बाबत एक शिफ्ट जरूरी छ। लाॅकडाउन बाद से करीब चार महीना बिटी देशभर स्कूल बंद हूण से बाद मा स्कूल आनलाईन माध्यम बिटी बच्चैं तै पढाणा छन।


अभिभावकौं चिंता देखीकन सरकार न ’प्रगति’ नामक दिशा- निर्देश जारी कर येन। यूं दिशा निर्देशौं मा मानव संसाधन मंत्रालय न सिफारिश करी कि प्री पाईमरी छात्रौं बाबत आॅनलाईन क्लास अवधि 30 मिनट से ज्यादा नी हूण चियांद।
दर्जा 01 से 8 तकन ह्वाळू कुणी मानव संसाधन विकास मंत्रालय न 45 मिनट तकन द्वी आनलाईन सत्रौं सिफारिश करी, जबकि दर्जा 09 से 12 तकन 30 से 45 मिनट अवधि चार सत्रौं सिफारिश करे ग्यायी।
कोविड 19 महामारी कारण स्कूल बंद कर दिये गीन। यन मा देश 240 मिलियन से ज्यादा बच्चा प्रभावित ह्वेन। नै गाईडलाईन जारी करी कन मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल’निशंक’ न ब्वाल कि महामारी प्रभाव तै कम कना बाबत स्कूलौं तै न केवल अब तकन पढाण अर सीखाण तरीका तै फिर से तैयार कन ह्वाल, बल्कण घर मा ही स्कूली शिक्षा क एक अलग तरह से सिखाण तरीका से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दीण की एक उपयुक्त विधि भी प्रस्तुत कन ह्वेली।
उन ब्वाल कि दिशा निर्देश उन छा़त्रौं बाबत आनलाईन शिक्षा पर ध्यान केंन्द्रित कना कना बाबत बणये गीन जू घर म छन। ये दिशा निर्देश उन बच्चैं जू घर पर लाॅकडाउन कारण कना छन। उन आनलाईन मिश्रित डिजिटल शिक्षा जरिया सिखाण की कोशिश करयाणा छ। डिजिटल शिक्षा तैयार ये दिशा निर्देश आॅनलाईन शिक्षा तै ऐथर बढाण कुणी भी एक रोड़मैप भी छ। बतै दिवा कि देश भर मा विश्वविद्यालयौं आर स्कलौं तै 16 मार्च बिटी बंद कर्या छन।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *