पुत्र कुपुत्रो जायते, माता कुमाता न भवती, नवजात बच्चा तै ये ठंड मा 25 फीट ऊॅच पुळ तळ फिंकी, नंगी गात रातभर तड़फडा रायी निहुण्या

बुल्दन बल औलाद निकमी ह्वे जांद पर ब्वे की ममता कब्बी नी मरदी, बेहरम भी ह्वे सकदू क्वी त एक सयणू पर ह्वे सकदू पर एक नवजात बच्चा दगड़ी इथगा बेहरमी। बेहरम अर बेशर्म लोगू न कुच्छ घंटा पैल यीं धरती मा जलम लीण ह्वाळ बच्चा तै 25 फीट पुळ ऐछ बटी तळ बिंदाल गाड़ मा फींकी। जॉच पड़ताळ मा पता लगी कि नवजात बच्चा तै कखी भैर बटी कन लैकन चुटये ग्यायी। चुटाण ह्वाळ तै ये इलक बारे मा सब्ब जाणकारी भी च। शहर बीचों बीच गुजरद बिंदाल नदी। एक तरफ गोविंदगढ कॉलोनी, अर दूसर तरफ बणी झुग्गी झोपड़ी। बच्ची रूण की आवाज सबसे पैल नगर निगम क कर्मचारी कुलदीप नाम क आदमी न सुणी। उ करीब सुबेर करीब पॉच बजे अपर गौर बछुर तै चारा द्याणा खातिर घऽर से भैर निकळी। रूण की आवाज सुणी कन उ नदी बटी कीच मा ह्वे कन नौनी तकन पौछीं। कुलदीप न वा जगह भी दिखायी जख बटी नवजात तै फिंके ग्यायी। पुळ पर लगी जाळी एक हिस्सा कटयूं च। वै नवजात बच्चा तै तकरीबन 25 फीट तळ कूड़ा करकट अर कीच मा चुटये गे छ्यायी। कुलदीप न बतै कि जै बगत वैन वै बच्चा तै उठायी वै बगत वा बिण्डी रूणा छेयी। वींक हत्थ खुट्ट टुट्या छ्यायी, वैन पैल वीं तै कपड़ा न साफ करी, फिर महिला अस्पताळ मा पौछायी, वख वै बच्चा न दुफरा मा द्वी बजे करीब दम तोड़ी द्यायी। यी घटना तै लेकन लोगू मा भारी गुस्सा च। स्थानीय लोगू बुलण च यू बच्चा बस्ती लोगू मनन कैक भी नी च। शैद वींतै भैर बटी लैकन यख मा चुटये ग्यायी। लोग वै चुटाण ह्वाळ कुणी भल बुरू बुलणा छन।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *