मन्था (गढ़वाळी कहानी)

गढ़वाळी कहानी। दिनेश ध्यानी। 23 जुलाई, 2020 मन्था। सुबेरा टैम छौं घर गौं म लोग पाणी, ग्वीलु, गुठ्यार अर कल्यौ

Read more

कब_तलक_जी_राळ ( गढ़वाली कविता)

.#कब_तलक_जी_राळ”. बिरण भोर मुण्ड रेकि कब तलक जी राळ। उजड़खु गोर खुट टेकि कब तलक़ जी राळ। कभी त आला

Read more

अहा! पकिगेनि सैदा काफळ, खट्टा- मिठ्ठा रसीला काफ़ळ

अहा! पकिगेनि सैदा काफळ खट्टा- मिठ्ठा रसीला काफ़ळ। चरचरू लूण जब मिलदा यूँमा गिच्च बिटी लाळ चुवांदा काफ़ळ। काफळै डाळी

Read more

”””’यमराज अर चित्रगुप्त संवाद'”””” (हास्य – व्यंग्य)

””””यमराज अर चित्रगुप्त संवाद”””’ (हास्य – व्यंग्य) 😎यमराज- अरे चित्रगुप्त इन बतौ अचगाळ सोशियल मीडिया मा गढ़वळि भाषा का इतगा

Read more

“खडु उठाऽ— अग्वाडि बढ़ा” युवा कवि अशोक जोशी कि स्वरोजगार पर कविता

अशोक जोशी स्नातक की पढै करदू एक ज्वान भुला। अशोक गुरुकुल कांगडी हरिद्वार मा स्नातक कु छात्र च अर भौत

Read more

तिलाड़ी कांडः अपर हकहकूकों बाबत पंचायत कन ह्वाळ गौं रवासियूं तै गोळीयूं न मार दे छ्यायी

जंगळूं से जुड़यां अपर हकहकूकों की रक्षा कना बाबत 90 साल पैल एक आंदोलन करे गे छ्यायी अर येक दमन

Read more

बण-जंगळ( गढ़वळी कविता) लिख्वार श्री ओमप्रकाश तिवारी

बण–जंगळ बण-जंगळ हमरी न्हेंन ह्वेरुक भी च। डाळ-बूट हमरी न्हेंन ह्वेरुक भी च। न हमन डाळी लगे न पाणी दे पर डाल्यूंन हमते फलूक दाणि दे फ़ौंट खेंचीन, पत्ता रुंडीन रिंगळा-पिंगळा फूल चुँडिन बेडु-तिमुल हमरी न्हेंन ह्वेरुक भी च। फूलुक डाळी हमरी न्हेंन ह्वेरुक भी च॥   बण काटिकबणांग लगे पख्याड़उजाड़ीकसड़क बणे जंगळ उग्टैकीरूखु डांड बणे रौल-गधन्यूकपाणी सूखे रौल-पाखहमरी न्हेंनह्वेरुक भी च। सीलुड़-तैल्वड़हमरी न्हेंनह्वेरुक भी च॥   तौळ बाँज-कुळें उळे, ऐंछ खर्सू-अँयारनिपटे रूंद डाळयूंक असधरी, लाल बुरांशकफुलून ढके जानबरुकि कुटुम्दरी तितर-बितर करिन

Read more

नै दिल्ली : डीपीएमआई सभागार म वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती वीणापाणी जोशी तैं याद करेगे

नै दिल्लीः 15 मार्च, 2020 खुणि उत्तराखण्ड लोक भाषा साहित्य मंच, दिल्ली का तत्वाधान म डीपीएमआई सभागार, न्यू अशोक नगर,

Read more