गाँ मा लुखुन्दर अर मूस किलै नाचणा छैया ?

चबोड्या मुन्सी – भीष्म कुकरेती अच्काल जै बि टी.वी चैनेल द्याखो उख  खुरदरा व्यापार मा फोरेन इन्वेस्टमेंट पर इ बहस होणि च।

Read more

आखिर हरक्या अर फरक्या दा मा क्या गप्प लगीन तुम भी जाणो (व्यंग )

परसी हत्थ बिरदरी कू सरपंच जी जलमदिन छ्यायी। सरपंच जी जलम बार मा शामिल हूणा खातिर हरक्या अर फरक्या भी

Read more

देहरादूण ऋषिपर्णा (रिस्पना) नदी रूणी कपाळ फोड़ फोड़ी राजधाणी कुणी

उत्तराखण्ड राजधानी देहरादूण मा बगण ह्वाळू नाळा जैकूणी पैल ऋषिपर्णा नद्दी नौं से जणे जांद छ्या वैख बाद जन जन

Read more

टंगिडि शास्त्र (हास्य व्यंग )

अचगाल क डिजिटल जमना मा भौत कुछ बगत से पैलि बदिल्येगे । पर एक चीज हज्जि भी उन्या उनि च

Read more

गढ़वाळि हास्य -व्यंग्यकोष – बेज्जती करदार वाक्य -1

1 – सच्ची , कसम से , त्यार कुत्ता  सौं दा ! त्वे से सब कुछ खुश हवे जांदन जीबी तू वूँ

Read more