बिन्डी फुंद्यानाथ न बण पलायन पर आधारित गढ़वली कानी

सारि गाँव मा रुकमा काकी ही रै गे जु मिताई चुप कराई सकद। बाकी सब चल बसींन। मतलब जु मिताई चुप कराई सकद छै। काकी कि बात ही अलग च। उमर ह्वे गे पर एकदम चुस्त। अपर टैम की पाँचवी पास। एक तपाँचवी पास,  ऊपर से काकी। रिस्तों की इज़्ज़त जरूरी च। डाटणौ क पूर अधिकार च काकी क और चुप रौणोक म्यार।  काकी जब शुरू हूंद त रुकणौक नाम नी लींद। मी भी कम नि छौं , सब रिकार्ड करदै। स्मार्ट फ़ोन क यतुक फायदा त छैंच। फ़ैसला आपक हाथ मा। मी– काकी नमस्कार। खूब छे।  काकी– मी त खूब छौं पर तु ठीक नी छे मेजाण। द्वी चार सालम एक द्वी दिनौकुण घर आंदि और फुंद्यानाथ बणी जाँदि। ई बि गलत, वी बि गलत। यन करो, तन करो। अरे तिताई क्या पड़ीं च। आदी, खादी और जादी। जब कुछपता ही नी च त किलाई खामोखां पटवारी बणदी। मी सब सुणणाई छे, त्यार भाषण।  मी– काकी क्या गलत ब्वाल? यन त ब्वाल कि सब पुंगड नी कै सकद त सग्वाड त करी ल्याव। घर कि नज़दीक बाँझ पुंगड ख़राब दिख्याणाई छन।  काकी– तिताई चायेणाई च बैठक और वूं ताई तेरी सिगरेट। सग्वाड त करी ल्याव! तिताई क्या पता? ताज़ी ताज़ी भुज्जी कै ताई ख़राब लगद? हैं? बांदर ह्वे गेन। कुछ नी राखद।जड़ से उखाडीक ख़ै जांदन। ब्याली भरसा क सग्वाडसफ़ाचट करि गेन। वैन बचाणैकी कोशिश कर त वैकि कपड़ा लत्ता फाडीक चंप्पत ह्वे गेन। जै कन देख, खटला मा पड्यूं च। यन लगणाई जन कैन लाठ्यूंन मारी ह्वालू।  काकी क्या बुनै छे, बांदर छन कि रिख? –मीन अपर ग्यान बखार। काकी– रिख से भी ख़तरनाक। आठ दस दगड मा आंदन। यतूक त गाँव मा आदिम नि रै! नरेशै की ब्वारी कुटद्वार जाईं च। अफ़ीक खाणुक बणाणैई च। रोटी बणैक धैरि गे और सग्वाड चारण बैठ बि नि छै कि बांदर ऐन औररोटीक टोकरि लेकन भागी गेन। मिज़ाण दरवाज़ खुल्यूं रै गे। क्या कन छे, भुकि से गे। तुम लोग ताई कुछ पता नी। गाँव की जिंदगी पैली भी मुश्किल छे अब त क्या बोन। कुछ दिन यख रैंकन द्याखो तब पता चललो।  मी– काकी! बांदर, रिख, सुंगर, बाघ त पैली भी छै। कत्ती बेर बाघ बाखर खींचीक ली गे छे। कत्ती बेर कुत्ताओं न भगाई। पर तब लोग डरद नी छै। दूर दूर तक पुंगड आबाद छै। साल मा चार मैना पुंगड्यूं मा कटि जाँदि छे। रातगोट और दिन जानवरूक चराण। साल भर कुण अनाज यूँ पुंगड्यूं बिटीक आंद छे। अब क्या ह्वे । खेती बाँझ रैली त जानवरूक मज़ा च।  काकी– बात त ठीक च। पर तु बता तब त्यार परिवार मा खाण वाल कति छै और अब कति छन। क्या सब्यूंक गुज़ार ह्वे सकद। नि ह्वे सकद न? जब परिवार मा खाण वाल बढ़ी जांदन त कुछ ताई कुछ और काम करण पडद। अबगाँव मा क्या काम च। कुछ बि ना। भैर जाण पडद। वख जैकन ज़ू बि काम मील करण पडद।  मी– सी त ठीक काकी पर पैली साल मा चार छै महिना कुण जांद छे। खेती क टाइम पर घर ऐ जांद छे।चार छै महिना की कमाई से मदद ह्वे जाँदि छे। बाल बच्चा पल जाँदि छे। 

Read more

बाकि सब ठीक छन, एक सच एक हकीकत बतांदी गढवळी कहानी

शांता बौ गांव मां ही रंद । जाण भी कख च। जब तक दादा बच्य्नू छे एक द्वी बेर लड़िक

Read more

“सुप्पन लाटू”

बिखौति आसपास भाबर मा ग्यूँ कटै जंदिन,खाली पुंगड़ों मा बचद् छन त् खुब्या।छुटा नौनु खुब्या काँडू की परवाह नी रांदि,उ

Read more

ना काटा …तौं डाळयूँ (एक लघु बालनाटिका )

 लकड़हारा और पेड़        चरित्र  ननि  नौनि लकड़हारा डाळ खरगोश चखुलि सूरज फूल बतख सामान  कुलाड़ी गिंदि -पैलु

Read more

ऐकन बी क्या कन

 उमर मा त बौडी माँ से कम छे पर रिस्ता मा बडी। बाडा क दुसर व्या । पालि वाली बौडी एक चार सालूक बेटा सत्या और साल भरैकि एक बेटी झूंपा ताई छोडीक अचानक चल बस। छोटु बच्चौं ताई पालुन क्वी आसान कामत छ न। परिवार मा और भी छे पर सारी ज़िम्मेदारी कु लींद। बौडी कि छोटि भुलि छे, बाडा से दस साल कम। बाडा क ससुरास बिटिन और सबूक बोल्णू पर बाडा दूसरु व्या करणौक राज़ी ह्वे।  और एक दिन मीणा नई बौडीबणीक ऐ ग्यै। मी तब तीन चार सालूक रै होलु। पर वे टाइमैक बहुत बात याद छन। सत्या, मी और गांवक हर उम्र दगड्या। साथ मा लडाई – झगड़ा, मार–पीट, फिर खेल–मेल लग्यूं रंद छे। परिवार कभी महसूस नी हूँ छे किकु कैकु बच्चा च। नई बौडी त और भी सुंदर। तीन साल बाद नई बौडी भी माँ बणी ग्यै। भुल्ियूंक गिनती बढ़ी ग्यै। एक दिन कान पकडीक ब्वाल कि अबसे नई बौडी न बोली। तब से बौडी ब्वाल।  सत्या दा और मी मैट्रिक तक त दगडी छै। फिर अलग अलग ह्वे गवाँ। बीच बीच माँ छुटि्यों माँ गाँव मा या परिवारिक काम काज मा मुलाक़ात हूंणाई रैंद छे। पढ़ाई खतम, नौकरी शुरू, । सत्या दा दिल्ली त मी बंबई। समयपर द्वी एक से द्वी गँवा। फिर शादीशुदा जिंदगी, बच्चे, आदि आदि। बीच मा द्वी भुली भी शादी क बाद अपण अपणी जगह मा व्यस्त ह्वे गीन। एक हिसाब से सब ख़ुशहाल, ज़िम्मेदार। समय क मार कु सै सकुदु। बाडा बीचली गीन और म्यार माता पिता भी।  सत्या दा बौडी तायी अपर दगड दिल्ली लै आइ। तब तक मी भी एक नई कंपनी ज्वाइन करीक दिल्ली सेंट्रल ह्वे गे छ्या। अब अकसर मुलाक़ात ह्वे जांद। बौडी आज भी वनी ख़ुशमिज़ाज। जब कभी मुलाक़ात हूंद त क्याख़ाली तु पैली पुछद और बैठणकु बाद मा बोल्द। मी बोल्दु बौडी बैठण त दी। बौडी पोता पोत्ियूं दगड मजामां रंद। जब हमार घर आंद हम भी द्वा चार दिन से पैली जाण नी दींद। पुरानी बात सुणै सुणै क हंसांणाई रंद।  Loading… हम सोचद कुछ छवां, हूंद कुछ च। कुछ दिन पैली बात हूणाई छे कि यन करला, तन करला। बात त चार धाम यात्रा की भी छे। एकदिन बौडी ताई अचानक पेट मा ज़ोर क दर्द ह्वे। डाक्टर बुलाई, कुछ दवाई कर पर दर्द कमनी ह्वे। डाक्टरन कुछ टेस्ट बतैन। फिर सलाह देय कि हास्पिटल मा चेक करवाण पडल। हास्पिटलन दुसर हास्पिटल रेफर कर। टेस्ट पर टेस्ट। जैक डर छे वी ह्वे। कैंसर। जब भी सत्या दा न बोल आफिस छोडीक हाज़िरह्वे ग्यूं। और कैरि भी क्या सकद छे।  चार साल तक इलाज चल। दवाई, टेस्ट, दवाई, केमो, पता नी क्या क्या। बौडी ताई भी पता चल ग्यै छे कि कुछ गड़बड़ च। हम त यनी बुनै रवां कि बस कुछ टेस्ट और बाद मा सब ठीक ह्वे जाल। दर्द कुछ कम छे , पर जबसर क बाल झड़न लगींन त बौडी ग़ुस्सा करन बैठि ग्यै– तुम मिताई साफ साफ बताओ। अब हम क्या बतावां। एक दिन त बौडी विकराल ह्वे ग्ये– मिताई सब पता च। हर हफ़्ता हस्पताल लिजाणाई छौ। यतना दवाईखिलाणाई छौ। सब मुफत मा मिलणाई होल, हैं रे सत्या? अरे सत्तर पूर ह्वे ग्यूं। वेवकूफ नी छौं। एक दिन त जाण ही च। और तू? हर समय यख। काम धाम नी कुछ?  बडी मुश्किल से बौडी शांत ह्वे। देर रात ह्वे गे छे। बौडी अधा नींद मा छे। मीन ब्वाल बौडी फिर औलु।  बौडी मरीं सी आवाज मा ब्वाल – ऐकन बी क्या कन। जा अपर ख़्याल राखी।  सुबेर सुबेर सत्या दा क फ़ोन आई कि बौडी नी रै। रात नींद मा चुपचाप चलि ग्ये।  यीं बात ताई पच्चीस साल से ज्यादा ह्वे गीन। आज भी बौडी क शब्द याद छन– ऐकन बी क्या कन। कभी कभी हालात बस से बैहर ह्वे जांदन। सब ताई पता हूंद कि अब कुछ भगवान क ही भरवास च। फिर भी कोशिशकरन वाल लग्यां रंदन। पर जाण वाल ताई जनि भी ह्वाव पता चलि जांद। बौडी ताई भी पता चलि ग्ये छे, शायद । तबी त ब्वाल कि ऐकन क्या कन Loading…

Read more