चौक माटू ( हरीश कंडवाल मनखी कलम बिटी)

आज महेन्द्र भारतीय सेना बिटी सूबेदार ओहदा से रिटैर हूण बाद खुश ह्वे कन देहरादून आणा छ्यायी। सूबेदार रिटैर हूण

Read more

नरसिंग बुगठ्या ( गढ़वली कहानी , मनखी कलम बीटी)

आज बिरजू गोर बखर लेकन दूर बण जयूं छ्यायी। वै बण मा दूर दूर बिटी लोगू गोर बखर चरणा कुणी

Read more

बिन्डी फुंद्यानाथ न बण पलायन पर आधारित गढ़वली कानी

सारि गाँव मा रुकमा काकी ही रै गे जु मिताई चुप कराई सकद। बाकी सब चल बसींन। मतलब जु मिताई चुप कराई सकद छै। काकी कि बात ही अलग च। उमर ह्वे गे पर एकदम चुस्त। अपर टैम की पाँचवी पास। एक तपाँचवी पास,  ऊपर से काकी। रिस्तों की इज़्ज़त जरूरी च। डाटणौ क पूर अधिकार च काकी क और चुप रौणोक म्यार।  काकी जब शुरू हूंद त रुकणौक नाम नी लींद। मी भी कम नि छौं , सब रिकार्ड करदै। स्मार्ट फ़ोन क यतुक फायदा त छैंच। फ़ैसला आपक हाथ मा। मी– काकी नमस्कार। खूब छे।  काकी– मी त खूब छौं पर तु ठीक नी छे मेजाण। द्वी चार सालम एक द्वी दिनौकुण घर आंदि और फुंद्यानाथ बणी जाँदि। ई बि गलत, वी बि गलत। यन करो, तन करो। अरे तिताई क्या पड़ीं च। आदी, खादी और जादी। जब कुछपता ही नी च त किलाई खामोखां पटवारी बणदी। मी सब सुणणाई छे, त्यार भाषण।  मी– काकी क्या गलत ब्वाल? यन त ब्वाल कि सब पुंगड नी कै सकद त सग्वाड त करी ल्याव। घर कि नज़दीक बाँझ पुंगड ख़राब दिख्याणाई छन।  काकी– तिताई चायेणाई च बैठक और वूं ताई तेरी सिगरेट। सग्वाड त करी ल्याव! तिताई क्या पता? ताज़ी ताज़ी भुज्जी कै ताई ख़राब लगद? हैं? बांदर ह्वे गेन। कुछ नी राखद।जड़ से उखाडीक ख़ै जांदन। ब्याली भरसा क सग्वाडसफ़ाचट करि गेन। वैन बचाणैकी कोशिश कर त वैकि कपड़ा लत्ता फाडीक चंप्पत ह्वे गेन। जै कन देख, खटला मा पड्यूं च। यन लगणाई जन कैन लाठ्यूंन मारी ह्वालू।  काकी क्या बुनै छे, बांदर छन कि रिख? –मीन अपर ग्यान बखार। काकी– रिख से भी ख़तरनाक। आठ दस दगड मा आंदन। यतूक त गाँव मा आदिम नि रै! नरेशै की ब्वारी कुटद्वार जाईं च। अफ़ीक खाणुक बणाणैई च। रोटी बणैक धैरि गे और सग्वाड चारण बैठ बि नि छै कि बांदर ऐन औररोटीक टोकरि लेकन भागी गेन। मिज़ाण दरवाज़ खुल्यूं रै गे। क्या कन छे, भुकि से गे। तुम लोग ताई कुछ पता नी। गाँव की जिंदगी पैली भी मुश्किल छे अब त क्या बोन। कुछ दिन यख रैंकन द्याखो तब पता चललो।  मी– काकी! बांदर, रिख, सुंगर, बाघ त पैली भी छै। कत्ती बेर बाघ बाखर खींचीक ली गे छे। कत्ती बेर कुत्ताओं न भगाई। पर तब लोग डरद नी छै। दूर दूर तक पुंगड आबाद छै। साल मा चार मैना पुंगड्यूं मा कटि जाँदि छे। रातगोट और दिन जानवरूक चराण। साल भर कुण अनाज यूँ पुंगड्यूं बिटीक आंद छे। अब क्या ह्वे । खेती बाँझ रैली त जानवरूक मज़ा च।  काकी– बात त ठीक च। पर तु बता तब त्यार परिवार मा खाण वाल कति छै और अब कति छन। क्या सब्यूंक गुज़ार ह्वे सकद। नि ह्वे सकद न? जब परिवार मा खाण वाल बढ़ी जांदन त कुछ ताई कुछ और काम करण पडद। अबगाँव मा क्या काम च। कुछ बि ना। भैर जाण पडद। वख जैकन ज़ू बि काम मील करण पडद।  मी– सी त ठीक काकी पर पैली साल मा चार छै महिना कुण जांद छे। खेती क टाइम पर घर ऐ जांद छे।चार छै महिना की कमाई से मदद ह्वे जाँदि छे। बाल बच्चा पल जाँदि छे। 

Read more

बाकि सब ठीक छन, एक सच एक हकीकत बतांदी गढवळी कहानी

शांता बौ गांव मां ही रंद । जाण भी कख च। जब तक दादा बच्य्नू छे एक द्वी बेर लड़िक

Read more

“सुप्पन लाटू”

बिखौति आसपास भाबर मा ग्यूँ कटै जंदिन,खाली पुंगड़ों मा बचद् छन त् खुब्या।छुटा नौनु खुब्या काँडू की परवाह नी रांदि,उ

Read more