देहरादूण ऋषिपर्णा (रिस्पना) नदी रूणी कपाळ फोड़ फोड़ी राजधाणी कुणी

उत्तराखण्ड राजधानी देहरादूण मा बगण ह्वाळू नाळा जैकूणी पैल ऋषिपर्णा नद्दी नौं से जणे जांद छ्या वैख बाद जन जन जमन बदली तन तन यीं नद्दी नौ बी बदली अर येकू नौं ह्वेगे रिस्पना नदी। लोगू गिच्च सुण मा आंद कि या पैल बौत बड़ी नद्दी छे, गदन रगड़ देखी त लगदू छैंछ कि कब्बी या नद्दी त रै ह्वेली पर अब त या नद्दी नी च बलकण नाळा बणी सरा देहरादूण गंदगी तै बगाण पणी लगीं छ। आज यी नद्दी यीन हाल ह्वेगेन की पाणी साफ कन हूंद यीं तै देखी सब्ब भूल जयांद।एक बरसात ह्वे ना अर सरा देहरादूण गोरू मोळ सुगंरू मोळ लगै सरा कूड़ कबाड़ अर सड़ी पकीं भुज्जी यी नद्दी मा लोग स्यां छुटे दींदन। एक बरसात हूंद अर रिस्पना नदीं मा काळो पाणी बगद नजर अांद। रिस्पना नद्दी यन नी लगदी कि या गंगा जमुना मैत उत्तराखण्ड राजधाणी नद्दी ह्वेली यन लगदू कि सरा कूड़ा कबाड़ अर देहरादूण तै साफ बणाण जिम्मेवरी यीं नद्दी पर छ।

                                जब बिटी उत्तराखण्ड बणी तब्ब बिटी नौ मुख्यमंत्री बणीन। यी रिस्पना नदी किनर ही उत्तराखण्ड विधानसभा बण्यूं। विधानसभा स्त्र मा सब्ब नाक पण रूमाल धरी  विधानसभा सत्र करीक चली गेन पर कैन यीं नद्दी तै साफ करण कैनी सुध नी ल्यायी। कबरी कबरी कै नेता या मंत्री सुदबिज्यां मा सी साफ करण बात बोल दे ह्वेली स्या अलग बात छ। ये से पैल सरकार तै याद आयी रिस्पना नदी उन बड़ी बड़ी बात करीन कि रिस्पना नदी अब्ब उत्तराखण्ड नदियूं राजधाणी ह्वेली पर आखिरकार नद्दी नौ रिस्पना बिटी ऋषिपर्णा धरी उन भी बौग सादी द्या।

                 अब्बी कुच्छ दिन पैल रिस्पना नदी तै साफ करणा खातिर सोसल मीडिया अर वन मीडिया मा खबरू झुक्कण लगी छे कि रिस्पना नदी किनर डेढ लाख गढ्ढा खुदे गेन अर डाळ लगाण तैयरी हूणी। बस उ फोटो खिचेंन अर वैक बाद कैख गढ्ढा अर कैख डाळ। समाचारू मा अर सोसल मीडिया मा रिस्पना नदी साफ ह्वे ग्या। जब यी राजधाणी नद्दी हाल छन त बकयूं त सरकार तै नौं ही भी याद नी हूण साफ सफै बात दूर की छ। सब्यूं बजट ठिकण लगाण से मतलब छ नद्दी साफ ह्वाव या न ह्वाव। लोग भी घोरू मोळ अर सरा गंदगी रिस्पना मा रात अंध्यर पर चुटै अंदीन अर फजल ब्यखन घूमद बगत अफीक नकदवड़ तै बंद करी अंदीन द्वी गाळी भी अफु तै ही दे दीदिंन। एक मोदी जी कथगा करो स्वच्छ भारत अभियान। अगर इनी हाल राऽल त रिस्पना नदी मा बस केवल रेत बजरी अर घऽर नाळी पाणी दिखणा कुणी मिलल। अब्ब कन भी क्या तब्ब जब प्रदेश राजधाणी राणी छ तब्ब।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *