वन मंत्री हरक सिंह रावत तै जब देन गजराज न साक्षात दर्शन, ड्रेवर अर बगल लठ्या कठ्या छोड़ी कन चली गेन साथ, फिर जुड़ीन हत्थ अर वैक बाद………………….

जन तुमन सुणी च तनी ह्वायी, वन मत्रीं हरक सिंह रावत न या बात अपर गिच्च न ब्वाल। उन बतै कि कोटद्वार बाट पर उंक समणी गजराज ऐ गेन। जनी हाथी आयी, फिर सब्यूं सिट्टी पिट्टी गुम। म्यार लठ्या कठ्या अर ड्रेवर भी म्यार दगड़ छोड़कीन लापता ह्वे गेन। द्वी तरफ गाडियूं लैन लगी ग्यायी। वैक बाद वन मंत्री जू ब्वाल वै पढी कन सांस अटगण ह्वाळ छन।

वन मंत्री हरक सिंह रावत न बतै कि वख गाड़ी तै मुड़न जगह नी छेयी। कार ड्रेवर उतरी कन लापता ह्वे ग्यायी वैक बाद मील भगवान तै हत्थ जोड़ी कन याद करी। हाथी म्यार तरफा आयी, उंतै नुकसान पौछाण जगह मा गाड़ी साईड शीशा तै रगड़ी कन चली ग्यायी। तब जैकन उन राहत की सांस ल्यायी।

वन मंत्री हरक सिंह रावत बतै कि जब गाड़ी तै मुड़न जगह नी छेयी। गाड़ी ड्रेवर भगण बाद भगवान भरोसा करी अर आंख चिटपट बूझी देन अर हत्थ जोड़ी कन बैठ्यू रौ। हाथी उंक कार तरफा आयी उंतै नुकसान पौछाण बजाय गाड़ी साईड शीशा पर रगड़ी कन चली ग्यायी ं तब जैकन मे पर सांस अर बाच आयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *