कख द्याख, (गढ़वळि गजल)

दोस्ती करण वल़ुंन्,कैकी औकात कख द्याख।
दिल जब मिल ही गैन,फिर जात कख द्याख।।

बरबाद हूणsक छन बहाना लाख ईंं दुनिया मा।
माया जब दिल बसाई,फिर दिन रात कख द्याख।।

वा जो बुढ़ड़ि बैठि खंद्वार कूड़sक छज्जा मा इखुलि।
ल्वै पिलै पाल़ छ्या नौना,फिर वींन गात़ कख द्याख।।

चार भयोंsक बाना,चार भितऱि बणैं चलि गैनी वू।
आपस बैठि चार भयों,सुलझांद मामलात कख द्याख।।

मुख चचराट करणा ऐकी बख्लोण्यूं ब्वारियूंक।
जणिंं नौनूंsक पैलि इन बजरपात कख द्याख।।

बणैं अईं छ्या विचार, ड़ंड्याणाकु पैलि बटि वू।
‘कमल’ बेगुनैह सबूतोंsक,फिर कागजात कख द्याख।।

लिखवार: कमल जखमोला ( कोटद्वार बिटी) ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *