महाकाली कालिंका मंदिर का फेसबुक पेज पर ऑन लाइन कार्यक्रम मा अंतराष्ट्रीय मातृ भाषा दिवसा उपलक्ष मा गढ़वाली कवि सम्मेलन कु सुंदर आयोजन

महाकाली कालिंका मंदिर का फेसबुक पेज पर ऑन लाइन कार्यक्रम मा अंतराष्ट्रीय मातृ भाषा दिवसा उपलक्ष मा गढ़वाली कवि सम्मेलन कु सुंदर आयोजन

नई दिल्ली: अंतरराष्ट्रीय भाषा दिवस पर उत्तराखण्ड ही ना बलकन देश का अन्य राज्यों मा भी उत्तराखंडी प्रवासीयू न गढवाळी, कुमाउनी अर जौनसारी कवि सम्मेलन कू आयोजन करी। कखि कार्यक्रम सीधा मंच बिटी संचालित ह्वेन त कखि सोशल मीडिया मा ऑन लाइन अलग अलग फेसबुक पेज बिटी उरये गीन।

इनि एक गढ़वाळी – कुमाऊनी कवि सम्मेलन कू आयोजन ‘महाकाली कालिंका मंदिर समिति गढ़वाल अल्मोड़ा’ का फेसबुक पेज पर भी लाइव करे ग्यायी। बते दिवा कि माँ कालिंका भगवती कु यो प्रसिद्ध मंदिर गढवाळ अर कुमाऊँ क बीचों बीच पर विराजमान च अर या देवी द्वि जगौं क इष्ट कुल देवी रूप मा पूजे जांद। ये मंदिर का प्रबंधक समिति न मंदिर मा पर्यटन तै बढ़ावा दीणा बाबत प्रचार प्रसार का वास्ता फेसबुक पेज बणयूँ च । ये पेज पर उत्तराखंड क संस्कृति कु प्रचार प्रसार करे जांद। ये पेज मा लोकडाउन का बगत बटि ऑन लाइन कार्यक्रम मा गढवाळी कुमाउनी कवि सम्मेलनों कु लगातार आयोजन हूणा छन।
अंतराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मौका पर महाकाली कालिंका मंदिर समिति गढ़वाल अल्मोड़ा का ये प्रतिष्ठित पेज पर एक ऑन लाइन कवि सम्मेलन उरये ग्यायी। ये कवि सम्मेलन मा न्यूत्या कवि रुद्रप्रयाग बिटी वेदिका सेमवाल, अल्मोड़ा बिटी अनोप नेगी खुदेड़, नैनीडांडा पौड़ी बिटि रविन्द्र सिंह रावत, गरुड़ बागेश्वर बिटि संतोष जोशी, यमकेश्वर पौड़ी गढ़वाल बिटि हरीश कंडवाल “मनखी” ल अपणि भली प्रस्तुति दीं। कवि सम्मेलन मा कुशल मंच संचालन वीरेंद्र जुयाल “उपिरि” न करी। सब्यूँन गढवाळी कुमाउनी अर जौनसारी भाषा अकादमी उत्तराखंड मा बणाण की धाद लगे अर आठवी अनुसूची मा शामिल कना बाबत मांग करी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *