भली खबर: अब स्कूलू मा पढये जाली गढवळी, पौड़ी जिला बटी लगली येकी पवांण

गढवाळ मा पलायन हूण से वख दूधबोली भी खतरा मा आणी च। जै तै देखीकन जिला प्रशासन न एक बौत भलू काम करी। जिला प्रशासन न पाठ्यक्रम की मदद से गढवळी दूधबोली संरक्षण कुणी एक मुहिम भी शुरू करयाली। जैसे नौनिहालूं तै अपरी बोली भाषा तै अच्छी तरह से समझण अर जणन क मौका मिललू। जाणकारी क हिसाब से ये प्रयास मा पैल चरण मा कक्षा 01 से लेकन 05 तकन अर वैक बाद दूसर चरण मा 05 से लेकन दर्जा 08 तकन गढवळी भाषा तै पढये जाल। विभाग तरफ बटी ये बाबत 9 मास्टरू छंटे गेन। यी मास्टर जल्दी ही गढवळी भाषा पर बणन ह्वाळ पाठ्यक्रम तै तैयार करी कन विभाग तै सौंपी द्याल। जिला शिक्षा अधिकारी हरेराम यादव न बतै कि जिलाधिकारी पौड़ी क निर्देश बाद गढवळी बोली क संरक्षण खातिर प्रयास कन शुरू कर येन। उन बतै कि सबसे पैली दर्जा एक लेकन पॉचवी तकन पाठ्यक्रम तैयार कना खातिर 9 मास्टर छंटे गेन। वखी दूसर चरण मा कक्षा 05 से लेकन 08 तकन नौन्याळू खातिर पाठ्यक्रम तैयार करे जाल। उन बतै कि येकी पंवाण पौड़ी बटी लगली। या गढवळी भाषा क संरक्षण अर संवर्धन कूणी मील पत्थर साबित ह्वाल।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *