हल्द्वानी मेडीकल कॉलेज मा कैंसर कुणी जिम्मेदार जीन ह्वेगे पहचान, डॉक्टरों तै तीन साल मा शोध बाद मिली सफलता

हल्द्वानी मेडीकल कॉलेज मा कैंसर कुणी जिम्मेदार जीन ह्वेगे पहचान, डॉक्टरों तै तीन साल मा शोध बाद मिली सफलता

मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी क सर्जरी विभाग क चिकित्सकौ न इन तीन जीन पहचान कन मा सफलता हासिल करी, जैक बदलाव से कैंसर खतरा रै करदू।इन मा भविष्य मा कैंसर रोकथाम मा मदद मिल सकली।

कुमाऊं पहाडी क्षेत्र मा पित्त थैली कैंसर से पीड़ित लोग बौत संख्या माएसटीएच पहुंच दन। येक कारणों तै जणन खातिर सर्जरी विभाग न मेडिकल रिसर्च यूनिट मा तीन साल पैल ‘जेनेटिक्स चेंजेज इन गॉल ब्लैडर कैंसर इन कुमाऊं रीजन’ पर शोध शुरू करी।

सर्जरी विभाग विभागाध्यक्ष प्रो. केएस साही अनुसार मेडिकल कॉलेज मा इलाज खातिर अया 25 रोगियूँ जीन जांच करे ग्यायी। ये मा अभी तीन जीन पहचान ह्वाई । जै मा कै कारण से बदलाव हूँण पर संबंधित मनखी मा कैंसर विकसित ह्वाई।

पित्त थैली रोगियों जांच ह्वेली।

प्रो. साही अनुसार अब पित्त थैली होर कै मा शिकायत तै लेकन रोगी ऐ करदन तब बगत पर ही उक जीन की जांच करिकन यी दिखे जै सक्याद कि कखी वेमा बदलाव त नी हूंणा च। अगर बदलाव संकेत छन त पित्त थैली तै कैंसर उपजण से पैली हटे दिये जाल। ये मा काफी हद तकन पैली कैंसर तै रुकण मा मदद मिल सकद।

खराब हालत मा पहुंचे करदन रोगी

मेडिकल कॉलेज मा पित्त थैली क कैंसर रोगी स्टेज-4 मा पहुंचदन। डॉक्टरों अनुसार पहाड़ पर पित्त थैली मा पथरी, कैंसर काफी दिखण कुणी मिलद। पित्त थैली मा कैंसर भीतरी भीतर बढणा रै करदू , जैक आसानी से पता नी चलदू। जब तकन वेकि जांच, पहचान हूंद। तबरी तकन मर्ज बेकाबू ह्वे जांद। इलै प्रयास कना कि रोग हूँण से पैली खतरा तै भांप लिये जाव।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *