महेश्वरी देवी कुलानन्द बुड़ाकोटी स्मृति न्यास वरिष्ठ रंगकर्मी अर फिल्म अभिनेता श्री खुशहाल सिंह विष्ट अररमेश हितैषी तैं साहित्य सम्मान 2020

महेश्वरी देवी कुलानन्द बुड़ाकोटी स्मृति न्यास, दिल्ली

दिनेश ध्यानी: महेश्वरी देवी कुलानन्द बुड़ाकोटी स्मृति साहित्य , कला सम्मान- (2019.-2020) समारोह को आयोजन।

नै दिल्लीः 7 फरवरी, 2021 खुणि गढ़वाल भवन नै दिल्ली म महेश्वरी देवी कुलानन्द बुड़ाकोटी स्मृति न्यास, दिल्ली द्वारा साहित्य सम्मान अर कला अर रंगमंच सम्मान समारोह को आयोजन करेगे। ये मौका परैं वरिष्ठ रंगकर्मी अर फिल्म अभिनेता श्री खुशहाल सिंह विष्ट तैं रंगमंच अर कला सम्मान- 2019 अर वरिष्ठ साहित्यकार श्री रमेश हितैषी तैं साहित्य सम्मान 2020 प्रदान करेगे। सन् 2015 बिटिन न्यास हर साल सम्मान देंदा आणों.
ये कारिज का मुख्य मैमानों म वरिष्ठ साहित्यकार श्री ललित केशवान, दिल्ली म गढ़वाली, कुमाउनी, जौनसारी अकादमी का उपाध्यक्ष सुप्रसिद्ध शिक्षाविद श्री एम एस रावत, गढ़वाली, कुमाउनी, जौनसारी अकादमी का सचिव डाॅ जीतराम भट्ट, वरिष्ठ साहित्यकार श्री रमेश घिल्डियाल, वरिष्ठ साहित्यकार अर सिनेअभिनेता चिट्ठीपत्री पत्रिका का सम्पादक श्री मदन मोहन डुकलाण अर सुप्रसिद्ध भाषा प्रेमी, डीपीएमआई का चेयरमैन डाॅ विनोद बछेती जी न सम्मानित होण वळा विभूतियों तैं अंगवस्त्र, पुप्पहार, स्मृति चिन्ह अर ग्यारा-ग्यारा हजार की सम्मान राशि आदि प्रदान करीन।
ये मौका परैं तीन साहित्यकारों की किताबों को भी लोकार्पण करेगे। जैम वरिष्ठ साहित्यकार श्री गिरीश विष्ट हंसमुख जी की कुमाउनी कथा संगै्र हुंगरा को द्यालो, श्री रमेश हितैषी को गढ़वाली उपन्यास औसान अर वरिष्ठ कवि श्री गिरधारी सिंह रावत की गढ़वाली कविता संग्रै मैता बाटु को लोकार्पण करेगे। यांका अलावा कवि सम्मेलन को भी आयोजन करेगे कै नै-पुरणा कवियों न अपणि कविता सुणैन। द्वफरा तीन बजि बिटिन शुरू यो आयोजन देर शाम तलक चलि।

आयोजन का बारम संचालक श्री दिनेश ध्यानी न बोलि कि स्वर्गीय कुलानन्द बुडकोटी जी अपणां जमना सुप्रसिद्ध समाजसेवी छया। वोंन देश का बंटवारा का बगत परैं क्वैंटयां करांची म रैण वळा सैकड़ों गढ़वाली, कुमाउनी अर अन्य लोगों तैं सकुशल भारत भेजणा म मदद कैरि अर देश औणा बाद अपणु व्यवसाय सन् 1950 म बुडकोटी ज्वैलर्स का नौ परैं शुरू कैरि जो अमणि भी अनवरत चलणों अर वों का सुपुत्र ये कारोबार तैं अगनै बढौणान। अमणि बुडकोटी ज्वैलर्स दिल्ली अर उत्तराखण्ड म भी स्थापित चा।
श्री एम एस रावत जी न बोलि कि महेश्वरी देवी कुलानन्द बुड़ाकोटी स्मृति न्यास का माध्यम से श्री मनमोहन बुड़ाकोटी जी साहित्य अर समाज खुणि भौत बढिया काम करणां छन। दिल्ली म हमरि अकादमी भी बणि गे अब अकादमी का माध्यम से भी भौत सा काम करणीन। आप सौब लोगों को सहयोग से ही हम अपणि भाषा, संस्कृति तैं संज्वैकि राखि सकदां। डाॅ जीतराम भट्ट जीन बोलि कि साहित्य अर रंगमंच सम्मान वों विद्वानों को सम्मान चा जो अथक प्रयास करणानं पण दगडम यो पूरू समाजा सम्मान चा । यना भगीरथ प्रयास होण लग्यांन य भलि बात चा। भट्ट जीन बोलि कि सुप्रसिद्ध लोक गायक अर गढ़वाली, कुमाउनी, जौनसारी अकादमी का पैला उपाध्यक्ष स्वर्गीय हीरा सिंह राणा जी का परिवार की मौ मदद का खातिर हम सबि सजग छंवा अर जो बि बणि साकलु वों का परिवार की मौ मदद करे जाण चयेंद। डाॅ भट्ट जीन बोलि कि अमणि सात फरवरी खुणि उत्तराखण्ड म एक दौं फिर आपदा अयीं चा। वख सौब सुरक्षित रयांन यांका खातिर हम सौब भगवान से प्रार्थना करला अर दिवंगतों की आत्मा की शान्ति का खातिर द्वी मिनटौ मौन बि रखला।
डाॅ विनोद बछेती जीन बोलि कि महेश्वरी देवी कुलानन्द बुड़ाकोटी स्मृति न्यास का माध्यम से सम्मान दिये जाणान य भौत भलि बात चा। हम सब्यों को प्रयास भी यी छ कि हमरि भाषा हमरि औण वळि पीढ़ियों तैं पौछ अर हमरा नौन्याळ अपणि भाषाओं म बात करींन अर अपणां सौ संस्कारों से जुड़ीन। श्री मदन मोहन डुकलाण जीन बोलि रंगमंच म हमतैं परिचय करौण वळा हमरा अग्रज अर भौत ही मयळु सुभौ का मनखि वरिष्ठ रंगकर्मी श्री खुशहाल सिंह विष्ट जी तैं अमणि सम्मान मिलणों जौन हम जना लोगों तैं रंगमंच अर आंचलिक सिनेमा से परिचय करै ता हमखुणि स्य भौत गर्व की बात चा। वखी श्री रमेश हितैषी जी गढ़वाळी अर कुमाउनी का साहित्यकार छन वों की साधना को भी सम्मान चा, पूरी साहित्य बिरादरी का सम्मान चा।
श्री रमेश घिल्डियाल जीन बोलि कि महेश्वरी देवी कुलानन्द बुड़ाकोटी स्मृति न्यास से हमुतैं भौत उम्मीद छन। श्री मनमोहन बुडकोटी जी स्वयं एक विद्वान मनीषी छन अर वों को विजन अर सोच अमणि ये आयोजन म दिखेणीं। स्वर्गीय कुलानन्द बुड़ाकोटी जी अपणां जमना भौत भला समाजसेवी छया वोंन कै गरीब परिवारा नौन्यों का ब्यौ म गैणा-पातों से कन्या दान करीनं अर गरीब गुरबों की कतनै दौं मौ ममद भी कैरि।
कार्यक्रम का अध्यक्ष वरिष्ठ साहित्यकार श्री ललित केशवान जीन बोलि कि महेश्वरी देवी कुलानन्द बुड़ाकोटी स्मृति न्यास को आजौ आयोजन भौत स्तरीय चा अर सम्मानित होण वळा द्वी विभूतियों तैं हमरि शुभकामना छन।
श्री रमेश हितैषी को गढ़वाली उपन्यास औसान, श्री गिरीश बिष्ट हंसमुख को कहानी संग्रह हुंगरा कु द्यालु, श्री गिरधारी रावत की कविता संग्रह मैता बाटु को भी लोकार्पण ह्वै.
ये अवसर परैं कवितापाठ करण वळा कवियों म वरिष्ठ साहित्यकार सर्वश्री दीनदयाल बन्दूणी, जगमोहन सिंह रावत, डाॅ सतीश कालेश्वरी,बृजमोहन शर्मा,भगवती प्रसाद जुयाल, दर्शन सिंह रावत, जयपाल सिंह रावत, रमेश घिल्डियाल, वीरेन्द्र जुयाल उप्रि, द्वारिका प्रसाद चमोली, उदयराम मंहगाई, सन्तोष जोशी, मदन मोहन डुकलाण,बाल किशन, अनूप रावत, ओमप्रकाश आर्य, विमल सजवसजवाण, अनूप सिंह नेगी खुदेड़, रोशनलाल आदि कवियों न अपणी रचना सुणैन.
ये मौका परैं सर्वश्री पूरन राम आर्य, सार्वभौमिक का अध्यक्ष अजय विष्ट, सर्वेश्वर बिष्ट, बिनोद मन कोटी, रवीन्द्र कुकरेती, आचार्य जगदीश ढौंडियाल, कृपाल सिंह रावत, फिल्म निदेशक श्रीमती सुशीला रावत, संगीतकार राजेन्द्र चौहान, नरेन्द्र पांथरी, धीरेन्द्र बर्तवाल, आदि उपस्थित छाया. अर मातृशक्ति में श्रीमती कुसुम विष्ट, अकादमी सदस्य समाजसेवी श्रीमती पूजा बडोला, श्रीमती रामेश्वरी नादान, श्रीमती लक्ष्मी जी, जग्वाल फिल्मै नायिका श्रीमती कुसुम विष्ट, श्रीमती कुसुम चौहान, श्रीमती कौशल्या देवी, श्रीमती मंजू मेहरा, श्रीमती गुड्डी देवी आदि उपस्थित छया.कार्यक्रम को संचालन साहित्यकार दिनेश ध्यानी ल कैरि.
श्री मनमोहन बुडाकोटी न सौब्यों को धन्यवाद कैरि अर बोलि कि हम अपणी भाषा, संस्कृति का प्रसार का वास्ता जथगा बिना ह्वै साक काम करला.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *