गढ़वळी साहित्य पढण ह्वाळू खुणि खुश खबरी, ’मन की गेंड़’ जणि कविता संग्रह बजार मा भी उपलब्ध

गढ़वळी साहित्य आज खूब फलणा फुलणा छ, आज गढविळ अब बोली ना बल्कण भाषा छ येकू बड़ू उदाहरण आज बगत मा गढ़वळी साहित्यकारू की रचना बजार मा उपलब्ध छन्न, अब्बी कुच्छ मैना मा दिखणा मा आयी कि गढ़वळी साहित्यकार अपर उत्कृष्ट रचनौं प्रकाशन करी कन बजार मा ही ना बल्कण ऑन लाईन भी मिलणी छन। अब्बी पिछल दिनूं मा कुच्छ नै कविता संग्रह बजार मा ऐन जै मा वरिष्ठ साहित्यकार श्री देवेन्द्र जोशी ’ जलड़ा रै जंदीन, श्रीमती सुमित्रा जुगलाण जी कहानी किस्सा संग्रह ’बुलाक’ इनी अनूप सिह रावत ’ ज्यू त ब्वनू च’ श्रीमती प्रेमलता सजवाण की ’मन की गेड़’ श्री दिनेश ध्यानी जी धार ओर धार पोर, अर शांति प्रकाश ’जिज्ञासू’ प्रबन्ध काव्य ’सग्वड़ि’ अजों छपी कन बजार मा साहित्यू प्रेमियूं खातिर आयी।

आज हम बात कन्ना छवां नै छोळी नै लिखवार श्रीमती प्रेमलता सजवाण जी बाबत अर उंकी पोथी कविता संग्रहैं ’ मन की गेंड़’ की। प्रेमलता सजवाण अपणि कविता संग्रहै मा जनानियूं खैरी, अर दगड़ मा उंकी ताकत, उंक मयळू जिकुड़ी, नौन्याळू बाबत मॉ ममता पर जू आखर बुण्या छन उ जिकुड़ी मा अपर जगह बणाण मा काफी सफल छन। ’मन की गेंड़’ इनि कविता संग्रहै छ, जै मा लिखवार न जनानियूं जिदंगी उ सब्बि खैरी अर सुखील दिन हर क्वासूं प्राण पर अपर लेखनी चलयीं जू एक जनानि जीवन मा समणी अंदीन। लिखवार प्रेमलता सजवाण न बतै कि ये काव्य संग्रहै लोकार्पण 05 मई 2019 खुणि नगर निगम देहरादून मा करे ग्यायी, अर यू उंक पैली कविता संग्रहै छ। उन बतै कि यू साहित्य बजार मा भी मिलणू छ, येको प्रकाशन स्वायत्त सहकारिता बिटि करे ग्यायी। यीं कविता संग्रहै ज्वा कीमत छ वा मात्र 100 अर 200 रूप्या रखे गेन।

लिखवार प्रेमलता सजवाण जीवन परिचय

नै छोळी नै कवियत्री अर आखरू तै सजाण अर उं तै भौण दीण ह्वाळी प्रेमलता सजवाण जलम पूष मैना 13 गत्ति संवत् (28 दिसम्बर 1971) खुणि बुरगांव, पट्टी गुराडस्यूं पौड़ी गढवाळ मा ह्वायी। यूंकी माता नौ श्रीमती सम्पत्ति देवी अर पिताजी नौ स्व0 गुलाब सिंह नेगी छ्यायी। यूंक पति नौं अरूण सिंह सजवाण छ, जौकू अपर व्यवसाय छ, यूंका द्वी नौन्याळ अखिल अर निखिल छन। यूंकी शूरू कमड़या आखर बरेली अर वैक बाद आसाम, देहरादून मा ह्वायी, जबकि उच्च शिक्षा बी0ए0 अर बी0टी0सी0 देहरादून बिटि करी। अजों यी शिक्षा विभाग मा सहायक अध्यापिका पद पर काम कना छन्न अर नौन्याळूं तै शिक्षा क्षेत्र मा अग्वड़ी बढाण मा लग्या छन। लिखवार, श्रीमती सजवाण तै गढविळ, अर हिंदी मा कविता रचण, गीत गजल लिखण कू खूब शौक छ। आकाशवाणी, अर दूरदर्शन मा भी यून अपर कार्यक्रम करीन। 08 मार्च 2018 खुणि अन्तर्राष्ट्रीय जनानि दिवस पर पब्लिक रिलेशन, सोसाइटी ऑफ इण्डिया क देहरादून चैप्टर बिटि नारी सम्मान से भी नवजे ग्यायी। यी सामाजिक संस्था धाद से जुड़ी छन अर यीं धाद लोकभाषा एंकाश मा यूंकी सदनी अग्रणीय सदस्य रूप मा भूमिका रै करदी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *