90 साल पुरण, ये ऐतिहासिक पुळ मियाद ह्वे ग्यायी पूरी, अब खतरनाक ह्वे ग्यायी ये मा आण जाण

ऋषिकेश लक्ष्मणझुला पुळ मियाद खत्म ह्वे ग्यायी, अब ये मा आण जाण खतरा से खाली नी ह्वे सकदू। यी बात खुलासा पीडब्ल्यूडी सर्वे रिर्पोट मा ह्वायी। विभाग न रिपोर्ट शासन खातिर भेज याली। मामला यी और खास अर अहम छ, किलै कि अगल हप्ता बिटी कावंड यात्रा शुरू हूण ह्वाळी छ। प्रशासन बिटी कांवड़ियू खुणि नीलकंठ जाण खातिर लक्ष्मणझूला बिटि रस्ता बणये ग्यायी। लक्ष्मणझूला पुळ निर्माण 1929 मा ह्वायी, आण जाण खातिर 1930 मा खुले ग्यायी। करीब 90 साल पुरण ये पुळ समेत 1986 मा बण्यूं रामझूला पुळ पीडब्लयूडी डिजाईन पीके चमोली न कुच्छ दि पैल तकनीकि सर्वे करी छ्यायी। ये मा पुळ की लोडिंग क्षमता अर हवा दगड़ी होर चीजू भी जॉच करे गे छ्यायी। रिर्पोट मुताबिक 89 साल पैल क डिजाइन अर क्षमता हिसाब से पुळ आज स्थिति मा नी छ कि ये मा ज्यादा भीड़ ऐ जै सको।
रामझूजा पुळ सुरक्षित
पुरण बगत मा झूळा पुळ बणाण बगत पुळ क्षमता ध्यान नी रखे जांद, जबकि वर्तमान मा 500 किलोग्राम प्रति स्कवायर मीटर क्षमता झूला पुळ बणये जंदीन। सर्वे रिपोर्ट से स्थानय पुलिस तै भी बतै दिये ग्यायी। पीडब्ल्यूडी नरेन्द्र नगर डिवीजन एक्सईएन मोहम्मद आरिफ खान बुलण छ कि शासन निर्देशू हिसाब से अगल काररवै कना खातिर कदम उठै जाल। पीडब्ल्यूडी न अपर सर्वे मा हालांकि आवाजाही लिहाज से रामझुला पुळ तै सुरक्षित बतये ग्यायी। ये मा लोग ऐ जै सकदन। बतै दिवा कि ये पुळ तै बण्यां भी 33 बरस ह्वे गीन।
बोर्ड बैठक यी मामला पीडब्ल्यूडी अधिकारियूं न उठै छ्यायी। अपर, मुख्य सचिव, पीडब्ल्यूडी अर डीएम पौड़ी तै पुळ द्वी तरफां बैरिकेडिंग लगाण खातिर बुले गे छ्यायी, ताकि एक बाद मा ज्यादा लोग पुळ मा नी जै साकन।
– सुबोध उनियाल, विधायक नरेन्द्र नगर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *