केन्द्र सरकार न करी उत्तराखण्ड ये नगर तै साहसिक खेलूं की राजधानी घोषित

केन्द्र सरकार क पर्यटन मंत्रालय क एक अध्ययन हिसाब से ऋषिकेश तै देश की साहसिक खेलूं की राजधानी रूप मा चिन्हित करे ग्यायी। लोकप्रिय अर तीव्र राफ्टिंग रैपिड्स दगड़ा दगड़ी देश क सबसे उच्च बंजी जपिंग प्लेटफार्म की मेजबानी कन ह्वाळ ऋषिकेश ये साल एडवेंचर प्रेमियूं की पैल पंसद रायी। एडवेंचर प्रेमियूं की पंसद मामाला मा गोवा दूसर अर केरल तीसर जगह पाण मा कामयाब ह्वायी।
सचिव पर्यटक दिलीप जावलकर क अनुसार साल 2018 कुणी केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय न एडवेंचर साल क रूप मा मनायी। ये साल मा ये प्रकार की महत्वपूर्ण उपलब्धि पाण राज्य पर्यटन कुणी एक सम्मानू कू विषय च। उन ब्वाल कि ऋषिकेश अब न केवल योग की राजधाणी नी च बलकण एडवेचंर कैपिटल की उपाधि से भी नवजे ग्यायी। आण ह्वाळ फरवरी मैना मा प्रस्तावित पाटा -2019 क परिपेक्ष्य मा यी येक भलू रैबार च।
उन बतै कि केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय क अध्ययन मा यी भी समणी मा आयी कि सबसे बिण्डी लोगूं न ट्रेकिंग कना कुणी ़़ऋषिकेश तै छांटी। 14 फीसदी भारतीयूं की पंस बणीकन रिवर राफ्टिंग सबसे ज्यादा लोकप्रिय एडवेंचर स्पोर्ट साबित ह्वायी। ये कारण यी बतये ग्यायी कि भारत मा बौत बिण्डी राफि्ंटग रेपिड्स उपलब्ध छन अर एक गु्रप रूप मा राफि्ंटंग क मजा ल्याण लोग पसंद करदन। उन यी भी बतै कि ऋषिकेश मा हूण ह्वाळ बंजी जंपिग अध्ययन भी एक खास हिस्सा रायी। पिछल आठ सालूं मा येकी शुरूवात से लेकन अजों तकन यख 70,000/- जंप करे गेन जू कि ऐ छ्वटी से अवधि मा बण्यूं एक अन्तर्राष्ट्रीय मानक च। कैंपिग एक होर महत्वपूर्ण शैक्षिक गतिविधि क रूप मा रायी। लगभग 10 फीसदी लोगू न ये विकल्प तै एडवेंचर क माध्यम क रूप मा छांटी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *