बेहद खास खबर, या खबर नी पड़ी त कुछ नी पड़ी, जब साधारण जत्रवे बणी कन गौरीकुंड पौंछीन डीएम, अव्यवस्था तै देखीकन कत्ती पर पड़ीन गाज

रूद्रप्रयागः यात्रा व्यवस्था की जमीनी हकीकत जणना खातिर रूद्रप्रयाग जिलाधिकारी मंगेश धिल्डियाल अ़द्धा रात मा जब आम जत्रवे जणी केदारनाथ धाम के पड़ाव गौरीकुंड पौंछीन। यख जब अव्यवस्था देखी कन उंक गुस्सा सातवां आसमान मा चढी ग्यायी, जै कारण कत्ती कर्मचारियूं पर गाज गिरी। डीएम जब आम जत्रवे बणी कन अ़द्धा रात बाद केदारनाथ धाम क प्रमुख पड़ाव गौरीकुंड पौंछीन त हकीकत कुच्छ होर ही बुलणी छेयी। पड़ाव पर गंदगी से पट्या शौचालय, पाणी की सूख्यां नळ, पुलिस कर्मियूं की लापरवाही देखी कन त जिलाधिकारी क पारा चढी ग्यायी। यात्रा व्यवस्था मा लापरवाही देखी कन उन गौरीकुंड क सेक्टर मजिस्ट्रेट क तबादला केदारनाथ करी द्यायी, उ इखमी नी रूकीन बल्कण उबरी जल संस्थान क सहायक अभियतां अर अर अवर अभियंता की निलंबन की संस्तुति भी कर द्यायी।

गौरीकुंड मा सुलभ शौचालय हाल देखी कन उन सुलभ इंटरनेशनल पर पॉच लाख रूप्यों क जुर्मन लगै द्यायी। डीएम न पुलिस अधीक्षक कुणी ब्वाल कि गौरीकुंड क चौकी प्रभारी तै भी इकदम हटये जाव। पूर रात उन गौरीकुंड क घोड़ा पड़ाव पर जत्रवे बीच मा काटी। दुफरा मा 12 बजे उ मुख्यालय मा ऐन।

Loading...

जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल न बतै कि यूं दिनूं मा केदारनाथ मा हर रोज 30 हजार से ज्यादा जत्रवे आणा छन। जत्रवें तै क्वी दिक्कत परेशनी नी ह्वाव, ये कुणी जिला प्रशासन क इंतजाम कर्या छन। येक बावजूद भी उं तै शिकैत मिलणी छेयी कि कुच्छ अधिकारी अर कर्मचारी अपर दायित्वू तै निभाण मा हीलाहवली कना छन। ये बाबत उन इतवार रात कीबर 11 बजे बाद गुप्तकाशी बटी अपर गाड़ी से निरीक्षण कना खातिर निकळी गेन। ये दौरान उन सीतापुर, सोनप्रयाग अर गौरीकुडं मा जत्रवें से बात करी। डेढ दर्जन से ज्यादा यात्रियूं न बातचीत मा जिलाधिकारी तै पाणी क सूख्यां टंकी, गंदगी से लद्यां शौचालय अर सोनप्रयाग से केदारनाथ तकन चलण ह्वाळी शटल सेवा मा अनियमितता की शिकैत करी।

धाम क प्रमुख पड़ाव गौरीकुंड मा घोड़ा पड़ाव की अव्यवस्था देखी कन डीएम भी हैरान रै गेन। डाएम न बतै कि एक बजे से केदारनाथ कुणी घ्वाड़ा -खच्चर क आण जाण शुरू ह्वे जांद। उन बतै कि व रात एक बजे से पैल गौरीकुण्ड पौंछी गे छ्यायी। येक बाद वखी बेंच मा बैठी कन यात्रियूं से बातचीत कन लगी गेनं। ये दौरान पुलिस भी नदारद छेयी।

नियमू हिसाब से पुलिस जवान एक बजे घोड़ा पड़ाव पर हूण चियदींन। डीएम न बतै कि सुबेर पॉच बजे पुलिस क एक जवान वख आयी। बकै चार सुबेर नौ बजे दिखेन। उन बतै कि घ्वाड़ा खच्चर संचालकू न भी शिकैत करी कि पुलिस नजर नी आंद। उन ब्वाल कि शटल सेवा मा अनियमितता कारण भी पुलिस की लापरवाही रायी। जिलाधिकारी न ब्वाल कि यात्रा व्यवस्था मा लापरवे बर्दाश्त नी करे जाली, चाही उ कथगा भी बड़ू अधिकारी क्यो क नी ह्वाव। उन ब्वाल कि देश विदेश बिटी अयां जत्रवे एक सुंदर रैबार लेकन केदारनाथ बटी जावन यीं उंक उद्देश्य च।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *