राजनीति में आना चाहती हैं एक दिन की सीएम बनीं सृष्टि, खूब दिखाए तेवर, इन मुद्दों पर रहा फोकस

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर एक दिन के लिए उत्तराखंड की ‘मुख्यमंत्री’ बनी हरिद्वार की सृष्टि गोस्वामी ने खूब तेवर दिखाए। सृष्टि राजनीति में आना चाहती हैं। बतौर मुख्यमंत्री समीक्षा बैठक में पुलिस अधिकारियों को उन्होंने बाल अपराधों पर लगाम लगाने को कहा। सृष्टि ने कहा प्रदेश में महिलाओं को सुरक्षित माहौल मिले।

हल्के नीले रंग का कोट पहने, माथे पर छोटी सी काली बिंदी लगाए रुड़की बीएसएम पीजी कालेज की बीएससी कृषि की छात्रा सृष्टि गोस्वामी एक दिन का मुख्यमंत्री बनने पर खासी गंभीर नजर आईं। विधानसभा में विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक में सृष्टि ने कहा कि बालिकाओं को स्कूल आने-जाने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। बालिकाएं खुद को असुरक्षित महसूस करती हैं। घरेलू हिंसा के मामले बढ़ रहे हैं, इन पर रोक लगाने के प्रभावी इंतजाम किए जाएं। इसके अलावा स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराकर पलायन रोकने की दिशा में भी काम किया जाए।

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर उत्तराखंड की एक दिन की मुख्यमंत्री बनने वाली सृष्टि गोस्वामी के परिवार का राजनीति से दूर कर कोई वास्ता नहीं है। रुड़की के दौलतपुर गांव निवासी प्रवीण की बेटी सृष्टि ने एक दिन की मुख्यमंत्री बनकर न सिर्फ पिता का माथा गर्व से ऊंचा कर दिया, बल्कि अन्य बेटियों के लिए भी वह प्रेरणा स्रोत बन गई हैं।

सृष्टि का कहना है कि एक चुनाव प्रक्रिया से गुजरने के बाद ही वे बाल विधान सभा की मुख्यमंत्री बनी हैं। भविष्य में मौका मिला तो वह राजनीति में आकर असल रूप में भी सीएम बनना चाहेंगी। सृष्टि ने बालिका शिक्षा और सुरक्षा पर जोर दिया। कहा कि काॅलेजों में बालिकाएं खुद को असुरक्षित महसूस करती हैं। सीएम के रूप में उसने सुझाया कि बालिका सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाने चाहिए।

बैठक में पुलिस विभाग की ओर से डीआईजी निलेश आंदन भरणे ने कहा कि प्रदेश में महिला अपराध में कुछ इजाफा हुआ। इसकी एक वजह यह भी है कि थाने आने वाली महिलाओं की शत-प्रतिशत शिकायतें दर्ज की जाती हैं। उन्होंने कहा कि थाने में महिला आती है तो किसी की शिकायत रिसीव हो न हो, महिलाओं की जरूर होगी।

बैठक में लोक निर्माण विभाग ने डोबरा चांटी पुल के बारे में जानकारी दी। इसके बनने से जिला मुख्यालय से प्रतापनगर की दूरी डेढ़ सौ किलोमीटर से घटकर 68 किलोमीटर रह गई है। पर्यटन विभाग की ओर से बताया गया कि सरकार की ओर से होम स्टे योजना लाई गई। सिंचाई विभाग की ओर से सूर्याधार झील के निर्माण एवं इससे होने वाले लाभ की जानकारी दी। उरेडा की ओर से बताया गया कि प्रदेश में सौर ऊर्जा के क्षेत्र में जो काम किए जा रहे हैं, इससे स्थानीय लोगों को स्वरोजगार मिलेगा। बैठक में बाल आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी, अपर सचिव झरना कमठान आदि मौजूद रहे।

 

Source Link

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *