भारतीय रूप्यों (मुद्रा) पर गॉधी जी समणी सरदार भगत सिंह तस्वीर लगाण की मॉग कना छन वासी अर प्रवासी भारतीय जनमानस : रोशन रतूड़ी

भारत देश तै आजाद कराण मा सब्बी उ शहीदू योगदान रायी जौन देश बान अपर जान द्यायी। भारत देश तै आजाद कराण मा महात्मा गॉधी जी योगदान बौत बड़ू च, लेकिन हम तै यन भी नी भुलण चियांद कि सरदार भगत सिंह, चन्द्रशेखर आजाद, सुभाष चन्द्र बोस जणी होर क्रान्तिकारियूं न भी ये देश तै गुलामी से आजादी यूं बगैर भी संभव नी छेयी। आज भी सरदार भगत सिंह तै आजादी 72 साल बाद भी उंक जयन्ती नी मनये जांद। यनी उंक जयंती पर क्वी सरकरी अवकाश घोषित नी च।
ये बाबत विदेशू मा भारतीय प्रवासियूं क एक संगठन आर आर ह्यूमन इज फर्स्ट करी कन एक संगठन बण्यूं च जै क संरक्षक उत्तराखण्ड टिहरी रैवासी रोशन रतूड़ी आवाज उठै कि हमरी यीं पढवळी तै हमर देश जू शहीद ह्वेन खास करी कन शहीद भगत सिंह कुर्बानी क असल श्रद्धाजंलि या च कि भारत मुद्रा पर उंक भी तस्वीर छपे जाव ताकि भारत देश नै पढवळी तै अपर देश खातिर हर बगत सेवा अर बलिदान की भावना उंक भीतर पैदा ह्वे सको। शहीद भगत सिंह एक क्रान्तिकारी नेता छ्यायी जौं पर की वै बगत ज्वनी की उमाळ आणी छेयी अर दुन्या दिखणा बगत छ्यायी वै बगत मा उ देश खातिर फांसी पर झूली गेन।
देश मा जै की भी सरकार बणांं उं से अपील च कि सबसे पैल भारतीय मुद्रा पर गॉधी जी दगड़ मा शहीद भगत सिंह, सुभाषचन्द्र बोस, अर चन्द्रशेखर आजाद जणी वीर शहीदू की तस्वीर भी छपयाण चियांद ताकि हमर देश क यूं रत्न तै हमर पीढी तै यूं बाबत जाणकारी मिल सको। रोशन रतूड़ी ब्वाल कि अब नै पढवळी चंट चितवळ ह्वे ग्यायी, वीं तै बरगलै नी सक्यांद। नै पढवळी मॉग च कि अगर सरकार सरदार शहीद भगत सिंह तै शहीद दर्जा दगड़ी उंक जयंती मनाव अर सबसे बड़ी बात या च कि वीर शहीदू की सच्ची शहादत खातिर उंक तस्वीर भारतीय मुद्रा मा छपे जाव, ताकि हर भारतीय तै गर्व ह्वे सको कि सरदार भगत सिंह देश रैवासी हम छवां।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *