कभी नशा लत मा डृब्यूं अर्चित अब पुलिस थाना मा रैकन कना वकील बणन तैयरी, जाणों पूर कहानी

थानाध्यक्ष अमरजीत सिंह रावत न थाना परिसर मा ही उक रैण व्यवस्था करायी अर वैकी पढै कना जिम्मेदरी भी।

देहरादून। कोरोना काल मा उत्तराखण्ड पुलिस दोहरी भूमिका निभाणा छ। एक कोरोना योद्धा रूप मा दूसर समाज सेवक रूप मा। ये बार उत्तराखण्ड पुलिस न नशा लत शिकार एन यन युवक जै से वैक परिजनौं अर रिश्तेदारौं न किनारा करयाल छ्यायी, तब वैक हत्थ थामी कन वै तै समाज मुख्य धारा से जोड़ीकन वै तै जीवन जीण ललक पैदा करी। नतीजा या छ कि कोरोना काल मा वैन पुलिस सहयोग करी कन जरूरतमंद की मदद अर खुद नशा छोड़ीकन युवाओं क नशा बाबत जागरूक भी करी।

देहरादून रायपुर रैवासी अर्चित तै साल 2012 मा पिता मौत बाद नशा की लत लगी गे छेयी। 2017-18 मा नशा खातिर पैंसा मंगण लगी ग्यायी जै पर परिजनौं न रूपया दीण से मना करयाल। परिजनौं न अर्चित तै वैक मामा जी यख बैंगलूर भेज दिये ग्यायी। एक साल बैंगलूर रैण बाद उ देहरादून बौड़ी कन ऐ ग्यायी, लेकिन वैकी नशा आदत फिर भी नी छूटी। अर्चित न अपर नशा की लत पूरी कना खातिर मई 2019 मा अपर रिश्तेदारौं घर बिटी जेवर गहने चोरी कर देन। जै पर परिजनौं न वैक खिलाफ थाणा मा मुकदमा दर्ज करै दे छ्यायी, जै मा अर्चित तै एक साल सजा ह्वे ग्यायी।

     01 अप्रैल 2020 कुणी कोरोना क मध्यनजर वा जेल बिटी पेरोल पर छुटी ग्यायी। अर्चित पेरोल पर त छूटी ग्यायी। लेकिन वै परिजनौं न वै तै भीतर नी आण द्यायी, किलै कि अर्चित चोरी कना खातिर जेल गे छ्यायी। अब चर्चित समणी रैवास कना क्वी ठिकण नी छ्यायी, न खाण क्वी जुगाड़। यन मा परेशान अर्चित देहरादून क रायपुर थाना पौंछी, अर मदद गुहार लगायी। वैकी कहानी सुणी कन थानाध्यक्ष अमरजीत सिंह रावत न थाना परिसर मा वैकी रैण व्यवस्था करायी। ये दगड़ी वैक पढै कराण जिम्मेदारी भी ल्यायी। अर्चित की इंटर पढै छुटी गे छेयी, जै तै उ अब पूर कराण बाबत मदद कना छन। अर्चित शर्मा सभी नशा क आदी हुया नशेडी युवकौं खातिर प्ररेणास्त्रोत बणी ग्यायी। आज भी उ थाना रायपुर मा रैकन गरीब असहाय लोगू मदद कना छ अर नशा आदी नै पढवळी तै आत्मशक्ति से नशा छुड़न कुणी प्रेरित करे करदू।

         अर्चित ये कार्यप्रणाली अर अच्छू व्यवहार कारण 27 जुलाई कुणी महामहिम राज्यपाल उत्तराखण्ड न अर्चित की 03 माह 8 दिन की सजा माफ करी अर बगत से पैल रिहाई आदेश पारित करी। अर्चित येक श्रेय पुलिसकर्मियौं तै दे करदू अर अब वकालत कन चांद, जैसे पुलिस कर्मी उकी पूरी मदद कना छन।

साभार उत्तराखंड पुलिस फेसबुक पेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *